ब्रिटिश राज में बनाई गई इस्लाम विरोधी मुर्तियां तोड़ी गईं, मौलानों ने की थी मांग

मालदीव में ब्रिटेन के जाने-माने मूर्तिकार जेसन डेकायर्स टेलर द्वारा बनाई गई कलाकृतियों को तोड़ दिया गया है। निर्वतमान राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन ने इन कलाकृति को इस्लाम का अपमान करार दिया था। इस्लाम के लिए अपमानजनक बताए जाने के बाद पुलिस ने कुल्हाड़ी और अन्य उपकरणों की मदद से मंगलवार को उन्हें तोड़ दिया।

यामीन ने जुलाई में ही इन मूर्तियों को नष्ट करने का आदेश दिया था लेकिन उसका पालन शुक्रवार को किया गया। मूर्तियों को मालदीव के एक रिसॉर्ट में आधे डूबे हुए धातु के कंटेनर में रखा गया था। मालदीव का आधिकारिक धर्म इस्लाम मूर्ति निर्माण को प्रतिबंधित करता है। जुलाई में जब इन मूर्तियों को लगाया गया था तभी कुछ धर्मगुरूओं ने इसकी आलोचना की थी।

हालांकि इन मूर्तियों का इस्लाम से कोई नाता नहीं है। इसके बावजूद कई मौलवियों ने इस पर आपत्ति जताई थी। यामीन ने जुलाई में कहा था कि लोगों की भावनाओं के खिलाफ होने की वजह से उन्होंने ‘कोरालेरियम’ कलाकृतियों को नष्ट करने का निर्णय लिया मालदीव का राजकीय धर्म इस्लाम है। इस्लाम में मूर्तियों के चित्रण पर रोक है।

हालांकि, अभी यह स्पष्ट नहीं है कि जुलाई से अब तक इन मूर्तियों को नष्ट क्यों नहीं किया गया था, और राष्ट्रपति चुनाव में यामीन की हार के तुरंत बाद इन्हें तोड़ा जा रहा है। सरकारी मीडिया की ओर से सोशल मीडिया में आए एक वीडियो में कुछ लोग कुदाल और बिजली से चलने वाले उपकरणों से मूर्तियों को तोड़ते दिख रहे हैं।

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password