भारत को हिन्दू राष्ट्र बनाने के लिए संघ प्रमुख बनें राष्ट्रपति- शिवसेना

bhag-ad_66_070513082245

मुंबई: देश के अगले राष्ट्रपति के तौर पर संघ सरसंघचालक मोहन भागवत को बेहतर विकल्प बता कर शिवसेना ने ख़बरों की दुनिया में हलचल मचा दी है. पार्टी सांसद और शिवसेना के मुखपत्र सामना के कार्यकारी संपादक संजय राउत ने मुंबई में संवाददाताओं के सवालों के जवाब देते हुए कहा कि दिल्ली के गलियारों में आरएसएस चीफ मोहन भागवत को राष्ट्रपति बनाए जाने की खबरें चल रही हैं. उन्होंने कहा कि भारत को हिन्दू राष्ट्र बनाने के लिए राष्ट्रपति के तौर पर उनका नाम एक बेहतरीन विकल्प है.

बता दें कि 25 जुलाई को राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी अपना कार्यकाल पूरा करेंगे और इससे पहले राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव कराया जाएगा. उम्मीदवार के रूप में कई नामों पर चर्चा चल रही है. इसी बीच शिवसेना ने आरएसएस चीफ मोहन भागवत का नाम लेकर एक नई बहस को जन्म दे दिया है. आप को पता है कि शिवसेना केंद्र और महाराष्ट्र में बीजेपी की सहयोगी पार्टी है.

हालांकि संजय राउत ने ये भी कहा, ‘हमने सुना है कि मोहन भागवत का नाम सामने आ रहा है. अगर उनका नाम चल रहा है तो सही है. अगर बीजेपी उनके नाम पर विचार करती है तो शिवसेना चीफ उद्धव ठाकरे से बात होनी चाहिए.” फिर संजय ने ये भी कहा कि अगर बीजेपी किसी नाम पर हमारा समर्थन चाहती है तो उसे यहाँ मुंबई आकर उद्धव ठाकरे से बात करनी होगी.

संजय ने कहा कि मोहन भागवत एक बेहतर विकल्प हैं. वे प्रखर राष्ट्रवादी भी हैं. दरअसल संजय राउत से राष्ट्रपति चुनाव को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुरू की हुई डिनर डिप्लोमसी को लेकर कई सवाल पूछे गए थे. उन्ही सवालों के जवाब देते हुए संजय ने ये बात कही. गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने NDA में शामिल दलों से संवाद बढ़ाने और राष्ट्रपति चुनाव में उतारे जानेवाले उम्मीदवार को सभी दलों से समर्थन हासिल करने के लिए 29 मार्च के आसपास नई दिल्ली में एक प्रीतिभोज का आयोजन किया है.

बता दें कि बीजेपी की सर्वाधिक राज्यों में अपनी सरकार होने के बावजूद बीजेपी संसद में विपक्ष के मुक़ाबले कमजोर है. इसी लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद NDA के घटक दलों से संवाद की पहल की है. और इसी लिए वह दिल्ली में एक प्रतिभोज का आयोजन कर रहे हैं. आप को ये भी बता दें कि देश के अगले राष्ट्रपति के तौर पर आज से पहले तक बीजेपी के सीनियर नेता लालकृष्ण अडवाणी का नाम गूंजता रहा है, मगर शिवसेना के इस नए ऐलान से अब उनका नाम फेहरिस्त के नीचे खिसकता दिखाई देने लगा है.

बताया जा रहा है कि इस अवसर पर बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह द्वारा जिन खास लोगों को उपस्थित रहने का आमंत्रण दिया गया है उनमें उद्धव ठाकरे भी शामिल हैं. हालांकि बीजेपी की तरफ से इस पहल को शिवसेना से रिश्ते सुधारने के लिए उठाया गया कदम बताया जा रहा है. इस संदर्भ में पूछे जाने पर संजय राउत ने कहा, ‘अगर शिवसेना के वोटों की जरुरत है तो बातचीत करने के लिए मातोश्री आना होगा.

admin

Top Lingual Support by India Fascinates